बुधवार, अक्टूबर 20, 2021
बुधवार, अक्टूबर 20, 2021
होमFact CheckWeekly Wrap: कोरोना वायरस को लेकर इस हफ़्ते सोशल मीडिया पर...

Weekly Wrap: कोरोना वायरस को लेकर इस हफ़्ते सोशल मीडिया पर वायरल हुए टॉप 5 फेक दावों का Fact Check

कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने देश में तांडव मचा रखा है। बीते 24 घंटे में कोरोना के 4,01,993 नए मामले आए हैं, जबकि 3,523 लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना महामारी ने देश के सिस्टम की पोल खोल कर रख दी है। मौजूदा हालात को देखते हुए कहा जा सकता है कि कोरोना महामारी को लेकर सरकारों द्वारा किए गए इंतजाम नाकाफी हैं। लोग तड़प-तड़प कर अस्पतालों के सामने मर रहे हैं। हर दिन सोशल मीडिया पर लोगों की कोरोना से होने वाली मौत के कई वीडियो और तस्वीरें वायरल होती हैं। देश के इन्हीं हालातों को सुधारने के लिए लोग भी एक-दूसरे की मदद करने में जुटे हैं। लोग सोशल मीडिया पर जरूरी जानकारियां शेयर कर रहे हैं। लेकिन इसी बीच कोरोना से जुड़ी कई भ्रामक तस्वीरें और वीडियोज भी वायरल हो रहे हैं। हमारी टीम ने इस हफ्ते ऐसे ही कई फेक दावों का सच दुनिया के सामने रखा है।

प्लाज्मा डोनर्स के नहीं हैं WhatsApp ग्रुप्स पर तेजी से शेयर किए जा रहे ये फोन नंबर्स

WhatsApp ग्रुप्स पर एक पोस्ट खूब वायरल हो रही है। जिसमें लिखा हुआ है कि यदि दिल्ली एनसीआर में किसी को प्लाज्मा की जरूरत है, तो वो इन नम्बर्स पर संपर्क कर सकता है। नीचे प्लाज्मा डोनर के ब्लड ग्रुप को बताते हुए कुछ लोगों के नंबर भी लिखे हुए हैं। जब हमने दावे की पड़ताल की तो पाया कि ये वायरल दावा फर्जी है।

यहां पर पढ़े पूरी फैक्ट चैक रिपोर्ट।

क्या ऑक्सीजन की कमी से तड़पते मरीजों का है यह वायरल वीडियो?

सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा। जिसमें कुछ लोग बुरी हालत में जमीन पर पड़े हुए हैं। उनकी हालत इतनी ज्यादा खराब है कि वो उठ भी नहीं पा रहे हैं। इस वीडियो को शेयर करते हुए दावा किया जा रहा है कि, ये वीडियो भारत के हालिया हालातों का है। सड़क पर पड़े ये लोग कोविड मरीज हैं जो ऑक्सीजन की कमी से जूझ रहे हैं। जब हमने दावे की पड़ताल की तो पाया कि ये वीडियो एक साल पुराना है।

यहां पर पढ़े पूरी फैक्ट चैक रिपोर्ट

क्या कोरोना के इस संक्रमण काल की है सोशल मीडिया पर वायरल हुई यह तस्वीर?

बाइक पर महिला का शव ले जाते हुए एक तस्वीर वायरल है। दावा किया गया है कि महिला की मौत के बाद भी उसके शव को एम्बुलेंस नसीब नहीं हुई तो उसके बेटे और पति मजबूरी में शव को बाइक पर ले गए। जब हमने दावे की पड़ताल की तो पाया कि वायरल दावा भ्रामक है।

यहां पर पढ़े पूरी फैक्ट चैक रिपोर्ट

क्या घरेलू नुस्खे दिला सकते हैं कोरोना वायरस से छुटकारा?

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि लौंग, इलायची, कपूर और जावित्री के फूल की पोटली बनाकर जेब में रखने से कोरोना वायरस तो क्या कोई भी वायरस आपको नुकसान नहीं पहुंचा पाएगा। जब हमने दावे की पड़ताल की तो पाया कि ये दावा पूरी तरीके से गलत है।

यहां पर पढ़े पूरी फैक्ट चैक रिपोर्ट

कुछ सेकेंड सांस रोकने पर कोरोना मुक्त होने का दावा करने वाला सोशल मीडिया पोस्ट है फर्जी

व्हाट्सएप पर 30 सेकेंड की एक वीडियो शेयर की जा रही है। इस वीडियो में ऑक्सीजन और सांस रोककर कोरोना जांच की बात कही गई है। दावा किया जा रहा है, ‘इस फॉर्मूला से आप सांस रोककर ऑक्सीजन लेवल चेक कर सकते हैं और जान सकते हैं कि आप कोरोना संक्रमित हैं या नहीं।’ जब हमने दावे की पड़ताल की तो पाया कि ये दावा फर्जी है।

यहां पर पढ़े पूरी फैक्ट चैक रिपोर्ट


(किसी संदिग्ध ख़बर की पड़तालसंशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044 या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in)

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular