बुधवार, जुलाई 17, 2024
बुधवार, जुलाई 17, 2024

होमFact Checkसरकार ने नहीं चलाई 'महात्मा गांधी बेरोजगार योजना' सोशल मीडिया पर वायरल...

सरकार ने नहीं चलाई ‘महात्मा गांधी बेरोजगार योजना’ सोशल मीडिया पर वायरल हुआ फेक दावा

पूरी दुनिया में फैली कोरोना वायरस महामारी के चलते कई लोगों के रोजगार ठप हो गए हैं। ऐसे में व्हाट्सएप पर दावा किया जा रहा है कि बढ़ती बेरोजगारी को देखते हुए सरकार भारत के बेरोजगारों को घर बैठे रोजगार देगी। अगर आपके पास भी स्मार्ट फोन है तो आप भी इस योजना से घर बैठे 2 से 3 घंटे काम करके प्रतिदिन 1000 से 2000 रूपए तक कमा सकते हो। 

महात्मा गांधी जयंती पर सरकार भारत के बेरोजगारों को घर बैठे रोजगार देगी।

नोट:- आप भी नीचे लिंक पर क्लिक करके अपना ऑनलाइन आवेदन दीजिए। 

भर्ती केवल 15 अक्टूबर तक ही होगी इसलिए जल्दी करें।

वायरल पोस्ट के आर्काइव वर्ज़न को यहां देखा जा सकता है।

Fact Check/Verification

व्हाट्सएप पर वायरल हो रहे दावे की सत्यता जानने के लिए हमने पड़ताल शुरू किया। Google Keywords Search की मदद से खोजने पर हमें वायरल दावे से संबंधित कोई परिणाम नहीं मिला।  

महात्मा गांधी जयंती पर सरकार भारत के बेरोजगारों को घर बैठे रोजगार देगी।

वायरल दावे का सच जानने के लिए India.gov.in की आधिकारिक वेबसाइट को खंगाला। पड़ताल के दौरान हमें ‘महात्मा गांधी बेरोजगार योजना’ से संबंधित कोई जानकारी नहीं मिली।

महात्मा गांधी जयंती पर सरकार भारत के बेरोजगारों को घर बैठे रोजगार देगी।

अब हमने कुछ अलग-अलग कीवर्ड्स की मदद से यह खोजने की कोशिश शुरू की, पीएम मोदी ने महात्मा गांधी बेरोज़गार योजना शुरू की है या नहीं? पड़ताल के दौरान हमने पाया कि इस तरह की कोई योजना पीएम मोदी द्वारा शुरू नहीं की गई है।

महात्मा गांधी जयंती पर सरकार भारत के बेरोजगारों को घर बैठे रोजगार देगी।

अधिक खोजने पर हमने पाया कि पीएम मोदी ने बेरोजगार लोगों के लिए प्रधानमंत्री रोजगार योजना शुरू की थी। इस योजना के तहत आवेदन करने के लिए लाभार्थियों की उम्र 18 से 35 वर्ष होनी चाहिए।

महात्मा गांधी जयंती पर सरकार भारत के बेरोजगारों को घर बैठे रोजगार देगी।

इस योजना के अंतर्गत देश के बेरोजगार युवाओं को कम ब्याज दर पर स्वयं का व्यवसाय शुरू करने के लिए केंद्र सरकार विभिन्न बैंकों के माध्यम से धन उपलब्ध कराती है। इस योजना के अंतर्गत लाभार्थियों द्वारा शुरू किए जाने वाले रोज़गार की लागत कुल 2 लाख रूपए होनी चाहिए।

ट्विटर खंगालने पर हमें PIB Fact Check द्वारा किया गया एक ट्वीट मिला। इसके मुतबाकि ‘महात्मा गांधी बेरोज़गार योजना’ को लेकर किया जा रहा दावा फर्ज़ी है। केंद्र सरकार ने इस तरह की कोई योजना नहीं चलाई है।

Conclusion

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर वायरल हो रहे दावे का बारीकी से अध्ययन करने पर हमने पाया कि ‘महात्मा गांधी बेरोज़गार योजना’ को लेकर किया जा रहा दावा फर्ज़ी है। पड़ताल में हमने पाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा इस तरह की कोई योजना शुरू नहीं की गई है।


Result: False


Our Sources

India.gov.in https://www.india.gov.in/hi/

Jagran Josh https://www.jagranjosh.com/general-knowledge/list-of-all-ipl-winner-teams-1527686257-1?itm_source=Oneplus3&itm_medium=CRE&itm_campaign=1  

Paisa Bazaar https://www.paisabazaar.com/hindi/business-loan/pradhan-mantri-rozgar-yojana-pmry/

Twitter https://twitter.com/PIBFactCheck/status/1312418359397421061


किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें:checkthis@newschecker.in

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular