सोमवार, जुलाई 22, 2024
सोमवार, जुलाई 22, 2024

होमFact CheckReligionरीवा में युवक ने की युवती की पिटाई, वीडियो झूठे सांप्रदायिक दावे...

रीवा में युवक ने की युवती की पिटाई, वीडियो झूठे सांप्रदायिक दावे के साथ हुआ वायरल

सोशल मीडिया पर इन दिनों एक युवक द्वारा युवती को पीटे जाने का वीडियो तेज़ी से वायरल हो रहा है. वीडियो को शेयर करते हुए कैप्शन में लिखा गया है, “जो हिन्दू लड़की माँ- बाप के समझाने के बाद भी किसी मुस्लिम से रिश्ता रखती है, उनके साथ ऐसा ही होता है.” कैप्शन से यह बताने का प्रयास हो रहा है कि वीडियो में दिख रहा लड़का एक मुस्लिम है और लड़की हिन्दू है। 

अखंड भारत हरिओम सिंह राजावत नामक एक ट्विटर यूजर वीडियो को साझा करते हुए लिखते है, ” मां – बाप , समाज* के लाख समझाने के बाद भी*’मेरा अब्दुल वैसा नहीं है’* कहने वाली हिन्दू लड़कियों के साथ कुछ ऐसा ही होता है , *हां हो सकता है अंदाज़ कुछ अलग हो* लेकिन होता ऐसा ही है.” 

यह वीडियो फेसबुक और ट्विटर पर जमकर शेयर हो रहा है, जिसे यहाँ और यहाँ देखा जा सकता है.

Fact Check/ Verification

न्यूज़चेकर ने जब वायरल वीडियो के फ्रेम्स को गूगल रिवर्स इमेज सर्च किया तो हमें कई वेरीफाइड ट्विटर हैंडल्स द्वारा इस वीडियो से सम्बंधित कुछ पोस्ट मिले, जिसमें वायरल वीडियो को मध्यप्रदेश के रीवा ज़िले का बताया गया. इंटरनेट पर सर्च करने पर हमें दैनिक भास्कर की इस मामले से सम्बंधित एक रिपोर्ट मिली, जिसके अनुसार 21 दिसंबर को आरोपी पंकज त्रिपाठी युवती के साथ ढेरा गाँव जा रहा था जो मऊगंज से लगभग 20 किलोमीटर दूर है. रास्ते में जब युवती पंकज को शादी का प्रपोजल देती है तो पंकज गुस्से में आकर युवती को पीटने लगता है, जिससे वह बेहोश हो जाती है. घटना का वीडियो वायरल होने के बाद आरोपी पंकज त्रिपाठी को पुलिस ने यूपी के मिर्ज़ापुर से गिरफ़्तार किया था. 

ट्विटर पर हमें 25 दिसंबर को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के ऑफिस द्वारा किया गया एक वीडियो पोस्ट मिला. जिसके अनुसार, “घटना में अपराधी पंकज त्रिपाठी को गिरफ्तार कर उसके घर पर बुलडोजर चलाया गया। ड्राइवर पंकज का लाइसेंस भी कैंसल कर दिया गया है.” 

न्यूजचेकर ने जब रीवा के एसपी नवनीत भसीन से बात की तो उन्होंने बताया कि इस मामले में कोई धार्मिक एंगल नहीं है। उन्होंने कहा, ” इस मामले में कोई धार्मिक एंगल नहीं है। ये घटना बहुत संवेदनशील है और दुष्प्रचार करने वालों के खिलाफ़ उचित कार्रवाई की जाएगी.”

Conclusion

इस तरह हमारी पड़ताल में यह स्पष्ट हो गया कि रीवा के इस वायरल वीडियो में कोई भी धार्मिक एंगल नहीं है। यह वीडियो गलत दावे के साथ वायरल हो रहा है।  

Result- False

Our Sources

Report by Dainik Bhaskar
Tweet by Office of Shivraj Singh Chauhan
Telephonic conversation with Rewa SP, IPS Navneet Bhasin

किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044 या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular