रविवार, जनवरी 16, 2022
रविवार, जनवरी 16, 2022
होमFact Checkक्या उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य...

क्या उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को मंच से भगाकर अपमानित किया गया?

सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर कर यह दावा किया गया कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को मंच से भगाकर अपमानित किया गया.

उक्त ट्वीट का आर्काइव वर्जन यहां देखा जा सकता है.

उत्तर प्रदेश में अगले साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. ऐसे में राजनैतिक दलों ने अपने स्टार प्रचारकों को मैदान में उतार दिया है. समाजवादी पार्टी के मुखिया एवं सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव जहां रैलियों, सभाओं एवं अन्य दलों से मुलाकात कर सपा का चुनाव अभियान संभाल रहें हैं, तो वहीं कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी भी पिछले कई दिनों से यूपी में पार्टी का जनाधार मजबूत करती नजर आ रही हैं. सत्तारूढ़ भाजपा में स्थानीय नेतृत्व के अतिरिक्त कभी स्वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, तो कभी केंद्रीय मंत्री अमित शाह तथा राजनाथ समेत सिंह सहित कई अन्य नेता सभाएं करते नजर आ रहे हैं.

राजनीति में संकेतों के महत्त्व को झुठलाया नहीं जा सकता. यही कारण है कि यूपी के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य (Dy CM Keshav Prasad Maurya) की कथित तौर पर स्टूल पर बैठी एक तस्वीर, बार-बार शेयर की जाती है. बता दें कि बीते दिनों जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट का उद्घाटन करने पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी केशव प्रसाद मौर्य की तारीफ कर कार्यकर्ताओं को एक संदेश देने का प्रयास किया था.

इसी क्रम में, एक वीडियो शेयर कर यह दावा किया गया कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को मंच से भगाकर अपमानित किया गया.

उक्त ट्वीट का आर्काइव वर्जन यहां देखा जा सकता है.

Fact Check/Verification

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को मंच से भगाकर अपमानित करने के नाम पर शेयर किये जा रहे इस वीडियो की पड़ताल के लिए, हमने वीडियो के की-फ्रेम्स को गूगल पर ढूंढा, लेकिन इस पूरी प्रक्रिया में हमें कोई ठोस जानकारी प्राप्त नहीं हो सकी.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को मंच से भगाकर अपमानित किया गया

पड़ताल के दौरान पता चला कि पत्रकार Manish Pandey ने वायरल वीडियो को ट्वीट करके इसे गोरखपुर के एक कार्यक्रम का बताते हुए, मुख्यमंत्री योगी की नाराजगी झेलने वाले व्यक्ति को भाजपा नेता विभ्राट चंद कौशिक बताया है.

कुछ अन्य कीवर्ड्स की सहायता से गूगल सर्च करने पर हमें The Lucknow Express द्वारा 1 दिसंबर, 2021 को प्रकाशित एक लेख भी प्राप्त हुआ, जिसमे मुख्यमंत्री योगी द्वारा राज्य युवा कल्याण परिषद के उपाध्यक्ष विभ्राट चंद कौशिक को फटकार लगाने की बात कही गई है.

इसके अतिरिक्त हमें Hindustan Live द्वारा 30 नवंबर, 2021 को प्रकाशित एक वीडियो रिपोर्ट भी प्राप्त हुई, जिसमें वायरल वीडियो भी मौजूद है. बता दें कि वीडियो की गुणवत्ता बेहतर होने से यह साफ पता चलता है कि वीडियो में उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य नहीं बल्कि राज्य युवा कल्याण परिषद के उपाध्यक्ष विभ्राट चंद कौशिक मौजूद हैं.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को मंच से भगाकर अपमानित करने के नाम पर शेयर किया गया भ्रामक दावा

उत्तर प्रदेश सरकार के आधिकारिक यूट्यूब चैनल पर हमें उक्त कार्यक्रम का पूरा वीडियो प्राप्त हुआ, जहां मंच पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, बासगांव के सांसद कमलेश पासवान, विधायक विमलेश पासवान एवं अन्य नेताओं के साथ विभ्राट चंद कौशिक को भी देखा जा सकता है. बता दें कि इस पूरे कार्यक्रम में कहीं भी उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य उपस्थित नहीं थे.

उक्त कार्यक्रम की कुछ तस्वीरों को विभ्राट चंद कौशिक ने अपने फेसबुक प्रोफाइल पर भी शेयर किया है.

उत्तर प्रदेश में चुनावों के मद्देनजर हालिया दिनों में शेयर की गई कुछ भ्रामक जानकारियों के सच यहां (1, 2345) पढ़े जा सकते हैं.

Conclusion

इस प्रकार हमारी पड़ताल में यह बात साफ हो जाती है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को मंच से भगाकर अपमानित करने के नाम पर शेयर किया जा रहा यह दावा भ्रामक है. असल में जिस कार्यक्रम का वीडियो शेयर कर यह दावा किया जा रहा है उसमें केशव प्रसाद मौर्य मौजूद ही नही थे.

Result: Misleading

Our Sources

Tweet by Manish Pandey: https://twitter.com/ManishPandeyLKW/status/1465534422304710657

Report by Live Hindustan: https://www.youtube.com/watch?v=VOlVXLmJnyU

किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044 या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

Saurabh Pandey
The reason why he chose to be a part of the Newschecker team lies somewhere between his passion and desire to surface the truth. The inception of social networking sites, misleading information, and tilted facts worry him. So, here he is ready to debunk any such fake story or rumor.
Saurabh Pandey
The reason why he chose to be a part of the Newschecker team lies somewhere between his passion and desire to surface the truth. The inception of social networking sites, misleading information, and tilted facts worry him. So, here he is ready to debunk any such fake story or rumor.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular