बुधवार, फ़रवरी 21, 2024
बुधवार, फ़रवरी 21, 2024

होमहिंदीक्या सरदार पटेल की मूर्ति पर आई लागत और चाइना के डनयांग कुनशान पुल पर खर्च की...

क्या सरदार पटेल की मूर्ति पर आई लागत और चाइना के डनयांग कुनशान पुल पर खर्च की गयी लागत एक समान है ? जानिए पूरा सच

Authors

Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.

Claim-   
फेसबुक पर एक तस्वीर के दो हिस्सों में तुलना कर के बताया जा रहा है बुद्धिमान और मूर्ख के बीच का अंतर।
Verification– इन दिनों सोशल मीडिया पर एक तस्वीर बड़ी तेजी से वायरल हो रही हैं।  तस्वीर को व्हाट्सअप और फेसबुक जैसे माध्यमों से शेयर किया जा रहा है।  तस्वीर के एक हिस्से में सरदार पटेल की मूर्ति और प्रधानमंत्री मोदी का चित्र है छापा है वही दूसरी तरफ चीन के राष्ट्रपति जिंगपिंग के चित्र के साथ एक पुल की छपी है।  तस्वीर के दोनों  हिस्सों 3000 करोड़ रुपयों का जिक्र है। सोशल मीडिया में तस्वीर के साथ ‘बुद्धिमान और मूर्ख के बीच का अंतर।’ जैसा टेक्स्ट भी वायरल हो रहा है। यहाँ तस्वीर के माध्यम से यह दर्शाने का प्रयास हो रहा है कि भारत द्वारा सरदार पटेल की मूर्ति पर खर्च किये 3000 करोड़ आम जनता के किसी काम की नहीं वहीं चीन जैसे राष्ट्र ने एक पुल पर 3000 करोड़ ख़र्च कर आम जनता के हित में कार्य किया है।
हमने वायरल दावे की सत्यता जानने के लिए गूगल को खंगलना आरम्भ किया।  इस दौरान सबसे पहले सरदार पटेल की मूर्ति पर खर्च की गयी लागत का पता लगाया।
image.png
इस दौरान इकनोमिक टाइम्स की वेबसाइट पर प्रकाशित एक लेख से जानकारी प्राप्त।  जहां सरदार पटेल की मूर्ति पर खर्च हुई 2989 करोड़ खर्च होने कि बात की गयी है, जो औसत में  3000 करोड़ के समान ही है।  इसके उपरान्त अब हमने चीन के पुल की पूरी जानकारी प्राप्त करना आरम्भ किया। इस दौरान स्क्रीन शॉट्स के माध्यम से पुल का नाम डनयांग  कुनशान प्राप्त हुआ।
image.png
दानयांग कुनशान पुल की जानकारी प्राप्त करने के लिए हमने गूगल पर खोजा।  खोज के दौरान Oscrete construction product  नामक वेबसाइट पर प्राप्त प्रकाशित जानकारी के मुताबिक पुल की लागत में 8.5 billion डॉलर लगे हैं,जो कि लमसम 80 हज़ार करोड़ रूपये हुए।
image.png
प्राप्त जानकारी के मुताबिक चीन के पुल में 80 हज़ार करोड़ लागत आयी है जो कि सरदार पटेल की मूर्ति में आयी लागत से कई गुना अधिक है।
बता दे कि , सरदार पटेल की मूर्ति से पहले विश्व की सबसे ऊँची प्रतिमा चीन में ही लाफिंग बुद्धा की थी, और news18 में प्रकाशित एक लेख के मुताबिक उसकी लागत 37.1 मिलियन है।
image.png
 मुद्रा कन्वर्टर के इस्तेमाल से पता लगा कि भारतीय रुपये के अनुसार उसकी कीमत 2 अरब 66 करोड़ रुपये है।
image.png
newschecker.in टीम की पड़ताल में दावा भ्रामक साबित हुआ।
Tools Used 
  • Google Search
Result- Misleading 
 
 
(किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in)

Authors

Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.

JP Tripathi
JP Tripathi
Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular