रविवार, मई 19, 2024
रविवार, मई 19, 2024

होमFact CheckFact Check: अमेठी में दलित नाबालिग लड़की के साथ बर्बरता का पुराना...

Fact Check: अमेठी में दलित नाबालिग लड़की के साथ बर्बरता का पुराना वीडियो फ़र्ज़ी दावे के साथ वायरल

Authors

Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.

Claim
उत्तर प्रदेश में मंदिर से पानी पीने पर ठाकुर समाज के युवकों ने 8 वर्षीय दलित लड़की को पीटा.

Fact
नहीं, वायरल दावा गलत है.


सोशल मीडिया पर दिल दहला देने वाला एक वीडियो वायरल है, जिसमें कुछ लोग एक नाबालिग लड़की को डंडे से पीटते नज़र आ रहे हैं. वीडियो को इस दावे के साथ शेयर किया जा रहा है कि उत्तर प्रदेश में मंदिर से पानी पीने पर ठाकुर समाज के युवकों ने 8 वर्षीय दलित लड़की को पीटा.

हालांकि, हमने अपनी जांच में पाया कि यह वीडियो अमेठी का है और करीब 2 साल पुराना है. मोबाइल चोरी के शक में दलित नाबालिग लड़की की पिटाई करने में यूपी पुलिस ने तीन युवकों को गिरफ्तार किया था.

वायरल वीडियो करीब 42 सेकेंड का है. वीडियो में तीन युवक एक नाबालिग की डंडे से पिटाई करते दिख रहे हैं. इस दौरान एक युवक पलंग पर बैठा हुआ दिखाई दे रहा है. वहीं दूसरा युवक लड़की को फर्श के बल लिटाकर उसके पैर पर डंडे बरसाता हुआ दिखा रहा है. इसके अलावा, एक और युवक इसमें उन दोनों की मदद कर रहा है. साथ ही आसपास मौजूद महिलाएं भी उन लोगों को उकसाती नज़र आ रही हैं.

वीडियो को वायरल दावे वाले कैप्शन के साथ सोशल मीडिया पर शेयर किया गया है, जिसमें लिखा हुआ है “योगी के राज में लड़कियों की पूजा की जा रही है .बिना अनुमति के मंदिर से पानी पीने पर दलित समाज की 8 वर्षीय लड़की को ठाकुरों द्वारा पीटा जा रहा है और प्रताड़ित किया गया.” (वायरल वीडियो संवेदनशील होने के कारण उसकी तस्वीर हम यहां संलग्न नहीं कर रहे हैं.)

Fact Check/ Verification

Newschecker ने सबसे पहले वायरल पोस्ट के रिप्लाई सेक्शन को देखा. इस दौरान हमें अमेठी पुलिस द्वारा किया गया रिप्लाई मिला. अमेठी पुलिस ने वीडियो के जवाब में लिखा था, “संदर्भित वायरल वीडियो वर्ष 2021 का है जिसमें कुछ लोगों ने चोरी के आरोप में एक बालिका की पिटाई की थी जिसके संबंध में थाना अमेठी पर सुसंगत धाराओं में अभियोग पंजीकृत कर मारपीट करने वाले तीनों अभियुक्तों को गिरफ्तार कर जेला भेजा गया था. मंदिर में पानी पीने को लेकर मारपीट व अन्य आरोप असत्य हैं”.

   Courtesy: X/amethipolice

खोजने पर हमें अमेठी पुलिस के आधिकारिक X अकाउंट से 29 दिसंबर 2021 किया गया एक पोस्ट मिला. अमेठी पुलिस ने इस ट्वीट में एक प्रेस नोट भी साझा किया था.

Courtesy: X/amethipolice

प्रेस नोट में लिखा है कि ‘नाबालिग बालिका की पिटाई करने वाले तीनों आरोपी सूरज सोनी, राहुल सोनी और शुभम को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. पुलिस इस मामले में आईपीसी की धारा 342, 323,354, पोक्सो एक्ट एवं एससी/एसटी एक्ट के तहत मुक़दमा दर्ज कर कार्रवाई कर रही है.’

जांच में हमें इस मामले को लेकर आजतक की वेबसाइट पर 28 दिसंबर को प्रकाशित रिपोर्ट मिली. इस रिपोर्ट में बताया गया है कि यह मामला अमेठी कोतवाली थाना क्षेत्र के रायपुर फुलवारी गांव का है. इस गांव के रहने वाले सूरज सोनी के घर से कुछ समय पहले मोबाइल फोन चोरी हुए थे. चोरी की यह वारदात सीसीटीवी में कैद हो गई थी. बाद में कुछ युवकों ने उक्त लड़की की शिनाख्त की और उसको पकड़ कर अपने घर ले गए. इस दौरान उक्त युवकों ने लड़की को बेरहमी से पीटा और इसका वीडियो बना लिया.

   Courtesy: AAJ TAK

वीडियो बाद में सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. जिसके बाद अमेठी पुलिस ने मामले का संज्ञान लेते हुए पीड़िता के पिता से संपर्क कर शिकायत दर्ज किया और तीन आरोपियों के ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज किया.

पड़ताल के दौरान हमें 30 दिसंबर 2021 को टाइम्स ऑफ़ इंडिया की वेबसाइट पर प्रकाशित रिपोर्ट मिली. इस रिपोर्ट में अमेठी के तत्कालीन क्षेत्राधिकारी अर्पित कपूर का बयान मौजूद था. अर्पित कपूर ने टाइम्स ऑफ़ इंडिया को बताया था कि पीड़िता के पिता की तरफ से शिकायत मिलने पर 27 दिसंबर 2021 को इस मामले में एफआईआर दर्ज की गई थी और पोक्सो एवं एससी/एसटी एक्ट की धाराएं लगाई थी.

   Courtesy: TOI

रिपोर्ट में तत्कालीन क्षेत्राधिकारी अर्पित कपूर के हवाले से यह भी बताया गया था कि नाबालिग लड़की के पिता ने पुलिस को यह जानकारी दी कि उसकी बेटी की मानसिक स्थिति सही नहीं है. इसी वजह से वह अपना रास्ता भटक गई थी और आरोपी के घर में घुस गई थी. जिसके बाद आरोपियों ने उनकी बेटी को चोर समझकर पीटा था.

जांच में हमें 30 दिसंबर 2021 को न्यूज 18 की वेबसाइट पर प्रकाशित रिपोर्ट मिली. इस रिपोर्ट में भी बताया गया था कि मोबाइल चोरी के शक में दलित लड़की को पीटने के मामले में पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया था.

हमने अपनी जांच में पीड़िता के संपर्क में रहे दलित कार्यकर्ता सूरज कुमार बौद्ध से भी संपर्क किया. उन्होंने भी वायरल दावे का खंडन करते हुए कहा कि मोबाइल चोरी के शक में आरोपियों ने नाबालिग लड़की के साथ मारपीट की थी और उन लोगों ने जबरदस्ती चोरी कबूलने का दवाब डाला था.

Conclusion

हमारी जांच में मिले साक्ष्यों से यह साफ़ है कि मंदिर में पानी पीने को लेकर दलित लड़की की पिटाई का वायरल दावा गलत है.

Result: False

Our Sources
Tweet by Amethi Police on 16th April 2024
Tweet by Amethi Police on 29th Dec 2021
Article Published by AAJ TAK on 28th Dec 2021
Article Published by TOI on 30th Dec 2021
Telephonic Conversation with Dalit Activist suraj kumar baudh

किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044 या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

फैक्ट-चेक और लेटेस्ट अपडेट्स के लिए हमारा WhatsApp चैनल फॉलो करें: https://whatsapp.com/channel/0029Va23tYwLtOj7zEWzmC1Z

Authors

Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular