सोमवार, जून 17, 2024
सोमवार, जून 17, 2024

होमFact Checkक्या गौमूत्र के कारण 9 हजार लोगों को हुआ ब्लैक फंगस का...

क्या गौमूत्र के कारण 9 हजार लोगों को हुआ ब्लैक फंगस का संक्रमण?

कोरोना के बाद अब ब्लैक फंगस पूरे देश में तेजी से पैर पसार रहा है। ब्लैक फंगस के मामले हर दिन तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। इसी बीच सोशल मीडिया पर ब्लैक फंगस से जुड़ा बीबीसी का एक स्क्रीनशॉट वायरल हो गया। स्क्रीनशॉट में बीबीसी का लोगो लगा हुआ है। हेडलाइन में लिखा हुआ है, ‘भारतीय वैज्ञानिकों ने सर्च में पाया है कि ब्लैक फंगस के होने का संबंध गोमूत्र से है। ऐसे 9 हजार मामले सामने आए हैं।’ स्क्रीनशॉट में यह भी लिखा हुआ है, “डॉक्टरों ने बीबीसी से बात करते हुए कहा है कि सरकार को जनता को इस बारे में बताना चाहिए और सच्चाई से अवगत करना चाहिए। साथ ही लोगों को गोमूत्र से दूरी बनानी चाहिए।”

पोस्ट से जुड़े आर्काइव लिंक को आप यहां पर देख सकते हैं।

हमारे द्वारा Crowdtangle टूल पर किए गए विश्लेषण से पता चला कि गौमूत्र के कारण 9 हजार लोगों को हुआ ब्लैक फंगस का संक्रमण का दावा करने वाली इस पोस्ट को हज़ारों सोशल मीडिया यूज़र्स ने शेयर किया है।

ब्लैक फंगस
गौमूत्र के कारण 9 हजार लोगों को हुआ ब्लैक फंगस का संक्रमण

Fact Check/Verification

वायरल स्क्रीनशॉट का सच जानने के लिए हमने वायरल तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज के जरिए सर्च किया। इस प्रक्रिया के दौरान हमें वायरल तस्वीर से जुड़ी कोई जानकारी नहीं मिली। इसके बाद हमने बीबीसी की वेबसाइट पर जाकर इस खबर को खंगालना शुरू किया। इस दौरान हमें वायरल तस्वीर से जुड़ी ओरिजनल खबर बीबीसी की वेबसाइट पर मिली। रिपोर्ट की हेडलाइन काफी हद तक वायरल स्क्रीनशॉट से मैच करती है। ओरिजनल खबर की हेडलाइन में सिर्फ इतना बताया गया है कि भारत में ब्लैक फंगस के नौ हजार मामले मिले हैं। हमने बीबीसी की इस रिपोर्ट को पूरा पढ़ा, लेकिन हमें वायरल दावे से जुड़ी कोई जानकारी प्राप्त नहीं हुई।

ब्लैक फंगस
बीबीसी की ओरिजनल रिपोर्ट

पड़ताल के दौरान कई कीवर्ड्स के जरिए सर्च किया। लेकिन हमें ब्लैक फंगस और गौमूत्र से संबंधित कोई विश्वसनीय मीडिया रिपोर्ट नहीं मिली। इसके बाद हमने वायरल दावे की पूरी सच्चाई जानने के लिए बीबीसी के एक पत्रकार से संपर्क किया और इस बारे में बातचीत की। उन्होंने हमें बताया कि ऐसी कोई खबर बीबीसी द्वारा नहीं चलाई गई है। ये दावा गलत है, इस स्क्रीनशॉट को एडिट करके बनाया गया है।

पड़ताल के दौरान जब हमने वायरल स्क्रीनशॉट की तुलना बीबीसी की रिपोर्ट से की तो पाया कि वायरल स्क्रीनशॉट में भाषा से जुड़ी कई गलतियां हैं। वायरल स्क्रीनशॉट का फॉन्ट बीबीसी की रिपोर्ट से काफी अलग है। साथ ही अगर आप नजर डालेंगे तो पाएंगे की तस्वीर से पहले खींची लाइन का रंग डार्क है। जबकि बीबीसी की असली रिपोर्ट में तस्वीर से पहले खींची लाइन का रंग हल्का है। इससे ये साफ होता है कि वायरल तस्वीर एडिट की गई है।

बीबीसी की रिपोर्ट के साथ वायरल स्क्रीनशॉट की तुलना

Conclusion

हमारी पड़ताल में मिले तथ्यों के मुताबिक वायरल स्क्रीनशॉट को लेकर किया जा रहा दावा गलत है। वायरल स्क्रीनशॉट को एडिटिंग सॉफ्टवेयर के जरिए एडिट कर बनाया गया है। जिसे अब गलत दावे के साथ शेयर किया जा रहा है। गौमूत्र से ब्लैक फंगस फैलता है, ऐसी कोई मीडिया रिपोर्ट कहीं भी उपलब्ध नहीं है। भारतीय वैज्ञानिकों द्वारा की गई ऐसी कोई रिसर्च फिलहाल सामने नहीं आई है।

Read More : क्या राजस्थान में हो रही है ऑक्सीजन की बर्बादी? करीब एक साल पुराना वीडियो गलत दावे के साथ हो रहा है वायरल

Result: False

Claim Review: गौमूत्र के कारण 9 हजार लोगों को हुआ ब्लैक फंगस।
Claimed By: Viral Post
Fact Check: False

Our Sources

Self Contact

BBC-https://www.bbc.com/news/world-asia-india-57217246


किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular