रविवार, अप्रैल 14, 2024
रविवार, अप्रैल 14, 2024

होमFact CheckFact Check: क्या पश्चिम बंगाल सरकार ने पुलिस और एक सरकारी अस्पताल...

Fact Check: क्या पश्चिम बंगाल सरकार ने पुलिस और एक सरकारी अस्पताल की डॉक्टर भर्ती में सिर्फ मुस्लिमों का चयन किया? वायरल दावे का यहां जानें सच

Authors

Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.

Claim
ममता बनर्जी सरकार द्वारा पश्चिम बंगाल में पुलिस भर्ती और एक सरकारी अस्पताल की डॉक्टर भर्ती में सिर्फ मुस्लिमों को जगह दी गयी है।
Fact
यह वायरल दावा फर्जी है।

सोशल मीडिया पर यह दावा किया जा रहा है कि पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी सरकार द्वारा पुलिस भर्ती और एक सरकारी अस्पताल की डॉक्टर भर्ती में सिर्फ मुस्लिमों को जगह दी गयी है।

विजय शुक्ला नामक एक्स यूजर ने 30 जनवरी 2024 को एक पोस्ट में लिखा है कि “ममता बानो का असली चेहरा सामने आया पुलिस भर्ती में सारे मुस्लिम भर्ती किए सरकारी अस्पताल में सारे डॉक्टर मुस्लिम फिर भी अगर बंगाल के हिंदू ममता बानो की पार्टी को बोट देते हैं तो डूब मरो आपका ज़मीर मर चुका है।” इस पोस्ट के साथ एक वीडियो मौजूद है, जिसमें कहा जा रहा है कि पश्चिम बंगाल में हाल ही में पुलिस भर्ती हुई है और पुलिस रिक्रूटमेंट बोर्ड की लिस्ट में चयनित सब- इंस्पेक्टर के लगभग सभी नाम मुस्लिम हैं।

इस पोस्ट का आर्काइव यहाँ देखें।

Courtesy: X/@vijaysh86492406

Fact Check/ Verification

दावे का सच जानने के लिए हमने वायरल वीडियो के कीफ्रेम को कीवर्ड्स की मदद से गूगल सर्च किया। हमने पाया कि यह वीडियो VK News नामक यूट्यूब चैनल पर 19 जून 2021 को अपलोड किया गया था।

अब हमने इस वीडियो में दिखाई गयी सूची की सत्यता जानने के लिए पश्चिम बंगाल पुलिस भर्ती बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर चयनित सब-इंस्पेक्टर की इस लिस्ट को ढूंढा। इस दौरान हमें पता चला कि यह सूची 18 फरवरी, 2021 को पश्चिम बंगाल पुलिस रिक्रूटमेंट बोर्ड की ओर से जारी की गयी थी। वेबसाइट पर उपलब्ध इस सूची में 50 नाम अंकित हैं, जिनमें से अधिकांश मुस्लिम हैं, लेकिन गौर से देखने पर हम पाते हैं कि यह सूची सिर्फ ओबीसी (अन्य पिछड़ा वर्ग)-ए की रिक्तियों के लिए चयनित उम्मीदवारों की है।

पश्चिम बंगाल में ओबीसी को दो श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है। जो लोग सामाजिक और आर्थिक रूप से बेहतर हैं, वे ओबीसी-बी श्रेणी में हैं और बाकी लोग ओबीसी-ए श्रेणी में हैं। द क्विंट के अनुसार, श्रेणी ए को ‘अधिक पिछड़ा’ कहा जाता है और उसे 10 प्रतिशत आरक्षण मिलता है, जबकि श्रेणी-बी को ‘पिछड़ा’ कहा जाता है और उसे 7 प्रतिशत आरक्षण मिलता है।

हमने पाया कि पश्चिम बंगाल पुलिस भर्ती बोर्ड ने ओबीसी-बी की रिक्तियों के लिए चयनित उम्मीदवारों की अलग सूची की घोषणा की थी और उसमें अधिकांश नाम हिंदू हैं।

जांच में आगे हमने पाया कि भर्ती बोर्ड की ओर से कुल दस सूचियां जारी की गयी थी। इन सूचियाँ को देखने पर हम पाते हैं कि अधिकांश चयनित उम्मीदवार हिंदू समुदाय से हैं।

वायरल वीडियो के आखिरी हिस्से और क्लेम के कैप्शन में यह दावा किया गया है कि सूबे के एक अस्पताल में सिर्फ मुस्लिम डॉक्टरों की भर्ती की गई। वीडियो में मौजूद लिस्ट के आधार पर हमने जाँच शुरू की। हमने वीडियो में दिख रहे डॉक्टरों के नामों की लिस्ट का गूगल रिवर्स इमेज सर्च किया। इस दौरान 2 जून, 2021 की एक फेसबुक पोस्ट में हमें यह लिस्ट मिलती है, जिसमें इस अस्पताल का नाम ‘इस्लामिया’ बताया गया है।

दावे की सत्यता जानने के लिए हमने अस्पताल की वेबसाइट पर मौजूद नंबर पर फ़ोन किया। अस्पताल में मौजूद एक अधिकारी ने बताया कि यह अस्पताल सरकारी नहीं बल्कि चैरिटेबल अस्पताल है। अस्पताल की वेबसाइट पर स्पष्ट रूप से लिखा गया है कि ‘हमारी विभिन्न बाधाओं के बावजूद, हम स्वास्थ्य साथी के माध्यम से रियायती दर और बहुत ही रियायती शुल्क के साथ विभिन्न सुविधाएं प्रदान करके गरीब और वंचित लोगों को उपचार और निदान की सुविधाएं प्रदान करने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास करते हैं। यहां यह उल्लेखनीय है कि यह अस्पताल अपनी स्थापना के बाद से ही जाति, पंथ या धर्म से ऊपर उठकर पीड़ित मानवता को सेवाएं प्रदान कर रहा है।’

जांच में आगे हम अस्पताल के डॉक्टरों की लिस्ट देखते हैं। लिस्ट देखने पर हमें कई हिन्दू और मुस्लिम नाम लिस्ट में मिलते हैं, जिससे यह साफ़ हो जाता है कि यह दावा निराधार है कि इस्लामिया अस्पताल में सिर्फ मुस्लिम डॉक्टर हैं।

Conclusion

अपनी जांच से हम इस निष्कर्ष पर पहुँचते हैं कि पश्चिम बंगाल में पुलिस भर्ती में सिर्फ मुस्लिमों को भर्ती किए जाने का वायरल दावा फर्जी है।

Result: False

Our Sources
Official website of West Bengal Police Recruitment Board.
Merit List of 50 Candidates provisionally selected against OBC-A vacancies.
Report by The Quint dated 5th Feb 2021.
Merit List of 34 Candidates provisionally selected against OBC-B vacancies.
Phonic conversation with the staff of Islamia Hospital.
Official website of Islamia Hospital.

किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044 या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

फैक्ट-चेक और लेटेस्ट अपडेट्स के लिए हमारा WhatsApp चैनल फॉलो करें: https://whatsapp.com/channel/0029Va23tYwLtOj7zEWzmC1Z

Authors

Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular