रविवार, जनवरी 16, 2022
रविवार, जनवरी 16, 2022
होमFact Checkसाल 2021 में सोशल मीडिया पर छाई रही कौन-सी Fake News? पढ़ें...

साल 2021 में सोशल मीडिया पर छाई रही कौन-सी Fake News? पढ़ें Newschecker के Top 10 फैक्ट चेक

साल 2021 अपने अंतिम पड़ाव पर है, यह साल भारत ही नहीं पूरी दुनिया के लिए चुनौतियों से भरा रहा। एक तरफ देश ने COVID-19 की दूसरी लहर की मार झेली तो वहीं दूसरी तरफ राजनीतिक गलियारों में भी हलचलें बनी रहीं। कई खबरें तो सुर्खियां बनीं ही तमाम फ़ेक खबरें भी चर्चा में रहीं। 

साल 2021 में किस Fake News की रही सबसे ज्यादा चर्चा?

पिछले साल की ही तरह इस साल भी हमारा कई ऐसी भ्रामक जानकारियों से सामना हुआ जिन्हें कई लोगों ने सच समझा, चाहे वो देश के पहले CDS जनरल बिपिन रावत के हेलिकॉप्टर क्रैश के नाम पर वायरल हुआ वीडियो हो या फिर कोरोनावायरस से बचने के नुस्खे। ऐसी तमाम फ़ेक न्यूज़ का Newschecker ने पर्दाफाश किया। आइए देखते हैं इस साल वो कौन-से फैक्ट चेक थे जिन्हें सबसे ज्यादा पढ़ा गया।

Newschecker के Top 10 फैक्ट चेक

#1 झाबुआ की छात्रा को नहीं बनाया गया दो दिन का कलेक्टर 

Newschecker के Top 10 फैक्ट चेक

22 दिसंबर को सरकार से नाराज़ मध्य प्रदेश के झाबुआ में NSUI का प्रदर्शन हुआ। इस दौरान सरकार पर तल्ख टिप्पणी करती निर्मला चौहान नाम की छात्रा का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। छात्रा ने प्रदर्शन के दौरान कहा कि अगर सरकार कुछ नहीं कर पा रही है तो उन्हें कलेक्टर बना दिया जाए, वह सभी लोगों की मांगें पूरी करेंगी। वीडियो के वायरल होने के कुछ दिन बाद ही यह कहा जाने लगा कि झाबुआ की निर्मला चौहान को दो दिन का कलेक्टर बना दिया गया है। हालांकि इस बात में कोई सच्चाई नहीं थी, Newschecker से बातचीत में निर्मला चौहान ने बताया कि उन्हें दो दिन के लिए कलेक्टर नहीं बनाया गया है लेकिन यदि ऐसा होता है तो वो जरूर दो दिन के लिए कलेक्टर बनना चाहेंगी।

#2 जब आजतक का एडिटेड स्क्रीनशॉट दिखा कर फैलाई गई COVID-19 के चलते स्कूल बंद होने की अफवाह

Newschecker के Top 10 फैक्ट चेक

साल 2021 भारत के लिए साल 2020 से भी ज्यादा चुनौतीभरा रहा। देश ने इस साल COVID-19 की दूसरी लहर में कई मौतें देखीं। मई-जून में COVID-19 के मामले जब चरम पर थे तब सोशल मीडिया पर एक स्क्रीनशॉट शेयर किया जाने लगा। आजतक के इस स्क्रीनशॉट पर लिखा था, PM मोदी ने 31 जुलाई तक स्कूल बंद रखने के निर्देश दिए हैं। जबकि आजतक द्वारा ऐसी कोई ख़बर चलाई ही नहीं गई थी। PIB Fact Check ने भी इसे फ़ेक बताते हुए इसका खंडन अपने ट्विटर अकाउंट से किया। इस ट्वीट में बताया गया कि सरकार द्वारा स्कूल-कॉलेज बंद करने व परीक्षा रद्द करने के आदेश नहीं दिए गए हैं।

#3 वेब-सीरीज़ के शूट की क्लिप को असल घटना बताकर शेयर किया गया 

Newschecker के Top 10 फैक्ट चेक

दिन-दहाड़े एक प्रेमी युगल को गोली मारते पुलिसकर्मियों का वीडियो सोशल मीडिया पर अलग-अलग दावों के साथ शेयर किया गया। किसी ने गोली मारने वाले पुलिसकर्मियों को हरियाणा का बताया तो किसी ने इसे गुजरात पुलिस की बेरहमी बताया। वहीं Newschecker ने अपनी पड़ताल में पाया कि यह वीडियो एक वेब-सीरीज़ की शूटिंग का है, इसका असल जिंदगी से कोई संबंध नहीं है और वीडियो में दिखाई दे रहे सभी लोग दरअसल कलाकार हैं। वीडियो को गलत दावे के साथ सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है, इस बात की जानकारी पुलिस द्वारा भी ट्विटर पर साझा की गई। 

#4 कांग्रेस नेता बोले, बीजेपी ने अडानी ग्रुप को बेच दिया Indian Oil

फरवरी में सभी राजनीतिक पार्टियां विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटी थीं। पक्ष-विपक्ष एक दूसरे पर लगातार निशाना साध रहे थे। इसी बीच कांग्रेस नेताओं द्वारा सोशल मीडिया पर एक तस्वीर शेयर कर यह दावा किया गया कि जो Indian Oil कांग्रेस काल में सरकार का हुआ करता था वो अब बीजेपी ने अडानी ग्रुप को बेच दिया है। इस दावे का फैक्ट चेक करने पर पाया गया कि इंडियन ऑयल और अडानी ग्रुप के बीच यूपीए सरकार के कार्यकाल से ही गैस कारोबार को लेकर पार्टनरशिप है। दोनों मिलकर CNG गैस स्टेशन चलाते आ रहे हैं।

#5 अफगानिस्तान की 9 साल पुरानी तस्वीर को जम्मू-कश्मीर का बताया गया 

जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटने के बाद से ही सोशल मीडिया पर कई तरह के दावे वीडियो व तस्वीरों के जरिए किए गए। इनमें से एक दावा जो काफी शेयर हुआ वो था कि आतंकवादी महिलाओं के कपड़ों में छिपते फिर रहे हैं। इस दावे के साथ एक तस्वीर शेयर की गई जिसमें आर्मी के जवान एक सलवार-कुर्ता पहने शख्स को पकड़े हुए हैं। 9 साल पुरानी यह तस्वीर दरअसल भारत की ही नहीं थी। तस्वीर में दिख रहे जवान अफगानिस्तान सेना के थे जिन्होंने तालिबान के एक आतंकी को पकड़ा था। 

#6 कोरोनावायरस का कहर बढ़ा तो सोशल मीडिया यूज़र बोले नाक में डालें दो बूंद नींबू का रस

पिछले दो सालों से पूरी दुनिया कोरोनावायरस से लड़ने की कोशिश में जुटी है। वैक्सीन के दो डोज़ लगने के बाद जब बूस्टर लगाए जाने की बात की जा रही थी तब सोशल मीडिया पर कोरोनावायरस से बचने का एक और घरेलू नुस्खा शेयर किया जाने लगा जिसमें कहा गया कि नाक में दो बूंद नींबू का रस डालने से कोरोनावायरस को मारा जा सकता है, हालांकि इसके कोई भी प्रमाण मौजूद नहीं है। WHO ने भी इस तरह का कोई सुझाव नहीं दिया। दो बूंद नींबू का रस संक्रमण से सुरक्षा नहीं देता बल्कि इसे नाक में डालना जानलेवा जरूर हो सकता है। 

#7 थाईलैंड के मृत बौद्ध भिक्षु की तस्वीर को नेपाल की पहाड़ी से मिले 201 साल के भिक्षु का बताकर किया गया शेयर

नेपाल के पहाड़ों में एक तिब्बती भिक्षु मिला है। उन्हें 201 साल की उम्र का दुनिया का सबसे बुजुर्ग व्यक्ति माना जा रहा है। वह गहरी समाधि या ध्यान की स्थिति में हैं, जिसे “ताकाटेट” कहा जाता है। जब उन्हें पहली बार एक पहाड़ी गुफा में खोजा गया तो लोगों को लगा कि वह एक ममी हैं। हालाँकि, वैज्ञानिकों को जाँच करने पर पता चला कि वह ममी नहीं बल्कि एक जीवित इंसान हैं।

यह दावा फेसबुक, ट्विटर समेत तमाम सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर छाया रहा। इस दावे की पड़ताल के बाद पता चला कि 201 साल के भिक्षु बताकर जिनकी तस्वीर वायरल हो रही है वह दरअसल थाईलैंड के भिक्षु Luang Phor Pian हैं, जिनकी मृत्यु 92 साल की उम्र में 16 नवम्बर 2018 को हो गयी थी। जब इनका मृत शरीर पाया गया तो इनके चेहरे पर हल्की मुस्कान थी। 

#8 COVID-19 से बचने के लिए नानावती अस्पताल के नाम पर वायरल हुई घरेलू उपचार की सूची

कोरोना की दूसरी लहर आते ही सोशल मीडिया पर भ्रामक जानकारियों की बाढ़ आ गई। कहीं घरेलू उपचारों से संबंधित फेक न्यूज़ और भ्रामक जानकारी शेयर की गईं तो वहीं कुछ यूजर्स प्रतिष्ठित डॉक्टर्स और संस्थाओं के नाम पर फर्जी सलाह भी शेयर करने लगे। इन भ्रामक जानकारियों में नानावती अस्पताल के डॉक्टर के नाम पर शेयर की गई घरेलू उपचार की सूची भी शामिल है। कहा गया कि सूची में दिए गए नुस्खे नानावती अस्पताल के डॉक्टर लिमये द्वारा बताये गए हैं। यह सूची 2020 में भी वायरल हुई थी जिसका तब नानावती अस्पताल ने भी खंडन किया था और लोगों से अपील की थी कि इस तरह की गलत जानकारियों को साझा न करें। 

#9 आज़मगढ़ के कॉलेज की तस्वीर को केरल का बताकर पोस्ट किया गया

बुर्क़ा पहने कतारों में खड़ी कुछ युवतियों की एक तस्वीर को शेयर कर बताया गया कि यह तस्वीर केरल के गर्ल्स इंजीनियरिंग कॉलेज की हैं। सोशल मीडिया पर कई लोगों ने लिखा कि देखें किस तरह केरल में यह युवतियां अपनी पढ़ाई के साथ-साथ धर्म का भी पालन कर रही हैं। इस तस्वीर को वैरिफाई करने के बाद पता चला कि यह तस्वीर केरल की नहीं बल्कि यूपी के आज़मगढ़ के फातिमा गर्ल्स कॉलेज की है। 

#10 दो साल पुराने वीडियो को तालिबान की भारत को धमकी बताकर किया शेयर 

साल 2021 अफगानिस्तान के लिए तालिबान की हुकूमत लेकर आया। जहां अमेरिकी सेना के लौटते ही एक बार फिर तालिबान सत्ता में काबिज़ हो गया। एक तरफ तालिबान अफगानिस्तान पर अपनी पकड़ मज़बूत कर रहा था तो दूसरी तरफ सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल होने लगा। वीडियो को शेयर करने वालों ने कहा कि तालिबान की नज़र अब भारत पर है और वो पीएम मोदी को धमकियां दे रहे हैं। Newschecker ने अपनी पड़ताल में पाया कि वायरल किया जा रहा वीडियो पिछले 2 साल से इंटरनेट पर मौजूद है। वहीं तालिबान के प्रवक्ता मोहम्मद सुहेल ने कश्मीर के मुद्दे पर बातचीत करते हुए एक चैनल से कहा था कि तालिबान कभी भी भारत और पाकिस्तान की दुश्मनी का हिस्सा नहीं बनना चहता है। ये दोनों देशों का आपसी मामला है।


किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular