रविवार, अप्रैल 14, 2024
रविवार, अप्रैल 14, 2024

होमFact Checkक्या तस्वीर में दिख रहा मुस्लिम व्यक्ति राम मंदिर के लिए मूर्तियां...

क्या तस्वीर में दिख रहा मुस्लिम व्यक्ति राम मंदिर के लिए मूर्तियां बना रहा है?

Authors

A self-taught social media maverick, Saurabh realised the power of social media early on and began following and analysing false narratives and ‘fake news’ even before he entered the field of fact-checking professionally. He is fascinated with the visual medium, technology and politics, and at Newschecker, where he leads social media strategy, he is a jack of all trades. With a burning desire to uncover the truth behind events that capture people's minds and make sense of the facts in the noisy world of social media, he fact checks misinformation in Hindi and English at Newschecker.

Believing in the notion of 'live and let live’, Preeti feels it's important to counter and check misinformation and prevent people from falling for propaganda, hoaxes, and fake information. She holds a Master’s degree in Mass Communication from Guru Jambeshawar University and has been a journalist & producer for 10 years.

Claim
वायरल तस्वीर में दिख रहा मुस्लिम व्यक्ति राम मंदिर के लिए मूर्तियां बना रहा है.
Fact
वायरल तस्वीर में दिख रहे व्यक्ति का नाम सद्दाम हुसैन है, जो तस्वीर में रामनवमी के अवसर पर बेंगलुरु के राजाजीनगर स्थित राम मंदिर की साफ-सफाई करते दिख रहे हैं.

सोशल मीडिया पर एक तस्वीर शेयर कर यह दावा किया जा रहा है कि इसमें दिख रहा मुस्लिम व्यक्ति राम मंदिर के लिए मूर्तियां बना रहा है.

अयोध्या में आगामी 22 जनवरी को राम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के पहले सोशल मीडिया पर कई तरह की चर्चाएं देखने को मिल रही हैं. मूर्तिकारों के मुस्लिम होने, मंदिर निर्माण पर कांग्रेस के विरोध प्रदर्शन तथा कपिल सिब्बल के आत्महत्या करने के बयान से लेकर प्रधानमंत्री के राम मंदिर निर्माण कार्य में जुटे श्रमिकों के साथ भोजन करने तक, सोशल मीडिया पर राम मंदिर के निर्माण और प्राण प्रतिष्ठा से संबंधित कई भ्रामक दावे शेयर किए जा चुके हैं, जिनका सच यहां पढ़ा जा सकता है. इसी क्रम में सोशल मीडिया यूजर्स एक तस्वीर शेयर कर यह दावा कर रहे हैं कि इसमे दिख रहा मुस्लिम व्यक्ति राम मंदिर के लिए मूर्तियां बना रहा है.

Fact Check/Verification

वायरल तस्वीर मे दिख रहे मुस्लिम व्यक्ति द्वारा राम मंदिर के लिए मूर्तियां बनाए जाने के नाम पर शेयर किए जा रहे इस दावे की पड़ताल के लिए हमने तस्वीर को गूगल पर ढूंढा. इस प्रक्रिया में हमें यह जानकारी मिली कि वायरल तस्वीर साल 2019 के अप्रैल माह से ही इंटरनेट पर मौजूद है.

गूगल सर्च से प्राप्त परिणाम

Asianet Newsable द्वारा 11 अप्रैल 2019 को प्रकाशित लेख में ANI की एक रिपोर्ट के हवाले से यह जानकारी दी गई है कि वायरल तस्वीर में दिख रहे व्यक्ति का नाम सद्दाम हुसैन है, जो राजाजीनगर स्थित राम मंदिर के समिति के सदस्य वेंकटेश बाबू की दुकान पर काम करते हैं और रामनवमी के अवसर पर मंदिर की साफ-सफाई करते हैं.

Asianet Newsable द्वारा प्रकाशित लेख का एक अंश

ANI द्वारा 11 अप्रैल 2019 को प्रकाशित लेख में वेंकटेश बाबू और सद्दाम हुसैन दोनों के बयान मौजूद हैं.

ANI द्वारा प्रकाशित लेख का एक अंश

उपरोक्त जानकारी के आधार पर सर्च करने पर हमें ANI द्वारा 10 अप्रैल 2019 को शेयर किया गया एक ट्वीट प्राप्त हुआ, जिसमें वायरल तस्वीर से मिलते-जुलते दृश्य मौजूद हैं.

The Print द्वारा 18 मई 2019 को प्रकाशित यूट्यूब वीडियो में सद्दाम को मंदिर की सफाई करते देखा जा सकता है.

इसके अतिरिक्त The New Indian Express द्वारा 10 नवंबर 2019 को प्रकाशित वीडियो में यह जानकारी दी गई है कि सद्दाम हुसैन स्थानीय मस्जिद और मंदिर दोनों की साफ-सफाई करते हैं. वीडियो में उनके निजी जीवन को लेकर भी कई जानकारियां सांझा की गई हैं.

गौरतलब है कि राम मंदिर में स्थापित होने वाली मूर्तियों के निर्माणकर्ताओं के बारे में अधिक जानकारी Newschecker की इस फैक्ट चेक रिपोर्ट से प्राप्त की जा सकती है.

Conclusion

इस प्रकार हमारी पड़ताल में यह बात साफ हो जाती है कि वायरल तस्वीर मे दिख रहे मुस्लिम व्यक्ति द्वारा राम मंदिर के लिए मूर्तियां बनाए जाने के नाम पर शेयर किया जा रहा यह दावा भ्रामक है. असल में वायरल तस्वीर में दिख रहे व्यक्ति का नाम सद्दाम हुसैन है, जो तस्वीर में रामनवमी के अवसर पर बेंगलुरु के राजाजीनगर स्थित राम मंदिर की साफ-सफाई करते दिख रहे हैं.

Result: False

Our Sources

Articles published by ANI and Asianet Newsable on 11 April 2019
YouTube videos published by The Print and The New Indian Express
Tweet shared by ANI on 10 April 2019


किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044 या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

फैक्ट-चेक और लेटेस्ट अपडेट्स के लिए हमारा WhatsApp चैनल फॉलो करें: https://whatsapp.com/channel/0029Va23tYwLtOj7zEWzmC1Z

Authors

A self-taught social media maverick, Saurabh realised the power of social media early on and began following and analysing false narratives and ‘fake news’ even before he entered the field of fact-checking professionally. He is fascinated with the visual medium, technology and politics, and at Newschecker, where he leads social media strategy, he is a jack of all trades. With a burning desire to uncover the truth behind events that capture people's minds and make sense of the facts in the noisy world of social media, he fact checks misinformation in Hindi and English at Newschecker.

Believing in the notion of 'live and let live’, Preeti feels it's important to counter and check misinformation and prevent people from falling for propaganda, hoaxes, and fake information. She holds a Master’s degree in Mass Communication from Guru Jambeshawar University and has been a journalist & producer for 10 years.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular