सोमवार, अक्टूबर 25, 2021
सोमवार, अक्टूबर 25, 2021
होमFact CheckWeekly Wrap: इस हफ़्ते सोशल मीडिया पर वायरल हुए Top 5 फेक...

Weekly Wrap: इस हफ़्ते सोशल मीडिया पर वायरल हुए Top 5 फेक दावों का Fact Check

बीते सप्ताह भारत के वर्तमान परिद्दश्य से जोड़कर कई पुराने वीडियो और फर्जी ट्वीट वायरल हुए। सोशल मीडिया यूजर्स ने इन पर विश्वास करते हुए अलग-अलग भ्रामक और फेक दावों के साथ इन्हें जमकर शेयर किया। इसी क्रम में, राहुल गांधी के एक वीडियो को शेयर कर दावा किया गया कि उन्होंने बीजेपी और आरएसएस का समर्थन किया है, तो वहीं दूसरी तरफ अभिनेता नसीरूद्दीन शाह को लेकर दावा किया गया कि वो AIMIM के लिए चुनाव प्रचार करेंगे। हमारी टीम ने सोशल मीडिया पर वायरल हुए कुछ ऐसे ही फेक दावों की पड़ताल करके उनका सच दुनिया के सामने रखा है।

क्या तमिलनाडु में तोड़े गए हिन्दू मंदिर का है यह वायरल वीडियो?

सोशल मीडिया पर एक मंदिर तोड़ने का वीडियो शेयर कर दावा किया गया कि ये वीडियो तमिलनाडु का है, जहां सरकार ने हिंदू मंदिरों को तोड़ने का आदेश दिया है। जब हमने दावे की पड़ताल की तो पाया कि वायरल दावा भ्रामक है।

पूरा फैक्ट चेक यहां पर पढ़ा जा सकता है।

राहुल गाँधी ने नहीं किया आरएसएस और बीजेपी का समर्थन, वीडियो क्लिप गलत दावे के साथ हुई वायरल

सोशल मीडिया पर राहुल गांधी का एक वीडियो शेयर कर दावा किया गया कि उन्होंने आरएसएस और बीजेपी का समर्थन किया है। जब हमने दावे की पड़ताल की तो पाया कि वायरल दावा भ्रामक है।

पूरा फैक्ट चेक यहां पर पढ़ा जा सकता है।

क्या अभिनेता नसीरूद्दीन शाह AIMIM के लिए करेंगे चुनाव प्रचार?

सोशल मीडिया पर एक तस्वीर शेयर कर दावा किया गया कि अभिनेता नसीरूद्दीन शाह AIMIM के लिए चुनाव प्रचार करेंगे। जब हमने दावे की पड़ताल की तो पाया कि वायरल दावा गलत है।

पूरा फैक्ट चेक यहां पर पढ़ा जा सकता है।

केरल में हिंदुओं को गणेश उत्सव मनाने से नहीं रोका गया, भ्रामक दावा हुआ वायरल

सोशल मीडिया पर मारपीट का एक वीडियो शेयर कर दावा किया गया है कि करेल में यह हालात हो गए हैं कि हिंदुओं को गणेश उत्सव का त्योहार मनाने से रोका जा रहा है। जब हमने दावे की पड़ताल की तो पाया कि वायरल दावा गलत है।

पूरा फैक्ट चेक यहां पर पढ़ा जा सकता है।

कार से लाल बत्ती उतारते गुजरात के पूर्व सीएम विजय रुपाणी का पुराना वीडियो भ्रामक दावे के साथ हुआ वायरल

सोशल मीडिया पर विजय रुपाणी का एक वीडियो शेयर कर दावा किया गया कि रुपाणी ने पद से इस्तीफा देते ही अपनी कार से लाल बत्ती को उतार दिया। जब हमने दावे की पड़ताल की तो पाया कि वायरल वीडियो 4 साल पुराना है।

पूरा फैक्ट चेक यहां पर पढ़ा जा सकता है।

 


किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular